राजस्व विभाग की संरचना

 राजस्व विभाग मंत्री राजस्व के अधीन है, जिनकी सहायता के लिए सचिवालय स्तर पर प्रमुख सचिव पदस्थ हैं। विभाग में १ सचिव,  २ उप सचिव, २ अवर सचिव हैं। विधिक कार्य के लिए एक उपायुक्त विधि कार्यरत है। राजस्व विभाग को सौंपे गए उत्तरदायित्व के लिए विभाग में कुल ६ शाखाएं कार्यरत हैं।

 

राजस्व विभाग का मैदानी कार्यालय-

    मैदानी कार्यालय में राजस्व विभाग के अंतर्गत संभाग स्तर पर १० संभागीय आयुक्त के पद स्वीकृत है। वर्तमान में होशंगाबाद संभाग को छोड़कर शेष सभी संभागों यथा चंबल, ग्वालियर, उज्जैन, इंदौर, भोपाल, सागर, जबलपुर, रीवा एवं शहडोल संभाग में आयुक्त पदस्थ है। प्रदेश में वर्तमान में ५० जिलें हैं जिनमें जिला कलेक्टर राजस्व विभाग के कार्यों के क्रियान्वयन के लिए जिम्मेवार है सभी जिलों में कलेक्टर पदस्थ होकर कार्यरत है। संभाग आयुक्त एवं जिलाध्यक्ष कार्यालयों में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की सेवाएं राजस्व वभाग के अंतर्गत रखी गई है।

    तहसील स्तर पर राजस्व विभाग के प्रतिनिधि के रूप में तहसीलदार - अपर तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार कार्यरत हैं। तहसीलदार संवर्ग के ४२९ तथा नायब तहसीलदार के ५९४ पद स्वीकृत है। राजस्व विभाग के अंतर्गत तहसीलदार- नायब तहसीलदारों के संवर्ग के लिए अभी कोई विभागाध्यक्ष नहीं है परन्तु इस संवर्ग के लिए विभागाध्यक्ष का कार्यालय स्थापित करने के लिए प्रकरण विचाराधीन है। वर्तमान में इनका नियंत्रण प्रमुख सचिव, राजस्व विभाग के अधीन है। इनके समकक्ष अधीक्षक, भू-अभिलेख - सहायक अधीक्षक भू-अभिलेख भी जिला कार्यालयों में पदस्थ रहते हैं। यह अमला आयुक्त, भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त, ग्वालियर के अधीन है।

 

(१)  संभाग आयुक्त

    राजस्व विभाग की मैदानी इकाई के रूप में 10 संभाग आयुक्त (राजस्व )  है।  

(१)  चंबल संभाग

(२) ग्वालियर संभाग

(३) उज्जैन संभाग

(४) इंदौर संभाग

(५) भोपाल संभाग

(६) होशंगाबाद संभाग

(७) सागर संभाग

(८) जबलपुर संभाग

(९) रीवा संभाग

(१०) शहडोल संभाग

 

(२) जिला कलेक्टर-

    जिला स्तर पर राजस्व विभाग के कार्यों के क्रियान्वयन के लिए प्रत्येक जिले में एक जिला कलेक्टर पदस्थ है।  संभागायुक्त एवं जिलाध्यक्ष के तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की सेवाएं राजस्व विभाग के अधीन रखी गई हैं।
   तहसील स्तर पर राजस्व विभाग के प्रतिनिधि के रूप में एक तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार रहते हैं। तहसीलदार संवर्ग के ४२९ तथा नायब तहसीलदार संवर्ग के ५९४ पद ,स्वीकृति है तहसीलदार- नायब तहसीलदार संवर्ग के लिए पृथक से कोई विभागाध्यक्ष नहीं हैं। इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही शासन के विचाराधीन है। वर्तमान में इन दोनों संवर्गों का नियंत्रण प्रमुख सचिव, राजस्व के अधीन हैं। तहसीलदार- नायब तहसीलदार संवर्ग के समकक्ष अधीक्षक, भू-अभिलेख सहायक अधीक्षक भू-अभिलेख, जिला कार्यालयों में पदस्थ रहते हैं। इनका मुख्य कार्य राजस्व अभिलेख संधारण एवं बंदोबस्त हैं। इनके विभागाध्यक्ष आयुक्त, भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त ग्वालियर है।

 

राजस्व विभाग की सामान्य जानकारी

  

१.   राज्य का भौगोलिक क्षेत्रफल  ३०६ वर्ग कि.मी

२.   राज्य में नगर एवं ग्राम
 

नगरों की कुल संख्या ३६९
ग्रामों की कुल संख्या  ५६३४६
राजस्व ग्रामों की संख्या    ५५४२१
वन ग्रामों की संख्या    ९२५
(वन विभाग से प्राप्त जानकारी के आधार पर)

                                                         
                                                     

 

३.   राज्य की प्रशासनिक जानकारी

     राजस्व संभाग                       10

     जिले                              50

     राजस्व अनुभाग                      १८१

     तहसील                            २७२

     विकासखण्ड                         ३१३

     नगर निगम                         १४

     नगर पालिका- नगर पंचायतें                        ३२३

     अधिसूचित निरीक्षक मंडल                            ७७१

     पटवारी हल्के                        ११६२२

     ग्राम पंचायतें                                                २२०२९

     जनपद पंचायत                      ३१३

     जिला पंचायत                       ४८

 

४.   भू-अभिलेख से संबंधित जानकारी

     क्षेत्रीय उपायुक्त भू-अभिलेख   ७

     खातों की संख्या                १११.७७ लाख

     खसरा नंबरों की संख्या           २६३.९८ लाख

     खसरा प्रविष्टियों की संख्या               ३६३.८१ लाख

 

५.   कृषि जोतें (कृषि संगणना २०००-२००१ पर आधारित)

     संख्या                             ७३.६० लाख

     क्षेत्रफल                            १६३.७१ लाख

     प्रति व्यक्ति बोया गया क्षेत्र०.३४ हेक्टर्स